150 रुपये जमा करें और रिटायरमेंट पर 2 करोड़ रुपये से अधिक पाएं, पेंशन भी 51,848 रुपये प्रति माह मिलेंगी

NPS Calculation : सेवानिवृत्ति की योजना नौकरी से ही शुरू होनी चाहिए। मासिक खर्च, नियमित आय और कर छूट को ध्यान में रखते हुए योजना बनाएं। वेतन की तरह, हर महीने आपके खाते में पैसे आने की व्यवस्था करें। अगर आप रिटायरमेंट के बाद रेगुलर इनकम का इंतजाम करना चाहते हैं तो प्लानिंग करें। रिटायरमेंट प्लानिंग एक ऐसी प्लानिंग है जो नौकरी शुरू करते ही शुरू हो जानी चाहिए। कई प्रकार की पेंशन योजनाएं ( Pension Scheme ) सेवानिवृत्ति के बाद पेंशन का लाभ प्रदान करती हैं। लेकिन, राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली ( National Pension System ) सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है।

NPS Calculation

"<yoastmark

यह न केवल सेवानिवृत्ति लाभ प्रदान करता है, बल्कि इसमें कर छूट, नियमित आय और पेंशन ( Pension ) जैसी कमाई की विशेषताएं भी शामिल हैं। इससे मासिक खर्च की कोई चिंता नहीं है। सैलरी की तरह नेशनल पेंशन स्कीम ( National Pension Scheme ) से भी आपके खाते में हर महीने नियमित आय के तौर पर पैसा आता है.

NPS Calculation: 150 रुपये से बचत शुरू करें

मान लीजिए आप 21 साल के हैं। यहां से रोजाना 150 रुपये की बचत करना शुरू करें। महीने में निवेश ( Investment ) 4,500 रुपये होगा। 60 साल की उम्र तक लगातार निवेश करना होता है, कुल निवेश 39 साल का होता है। आप सालाना 54000 रुपये का निवेश करेंगे और 39वें वर्ष में 21.06 लाख रुपये योजना में जमा किए जाएंगे। अगर 10 फीसदी का औसत रिटर्न दिया जाए तो मैच्योरिटी पर रकम 2.59 करोड़ रुपये होगी।

इस हिसाब से रिटायरमेंट पर आपको 51,848 रुपये मासिक पेंशन ( Pension ) मिलेगी। 39वें साल में ही आपको 1.56 करोड़ रुपये की एकमुश्त रकम मिल जाएगी ! एनपीएस में 40 फीसदी एन्युटी का विकल्प है। ऐसे में रिटायरमेंट के बाद 6% की वार्षिक वार्षिकी दर पर 1.56 करोड़ रुपये की एकमुश्त राशि मिलती है। शेष 1.04 करोड़ रुपये वार्षिकी में जाएंगे। अब इस वार्षिकी राशि से आपको हर महीने 51,848 रुपये पेंशन मिलेगी। वार्षिकी राशि जितनी अधिक होगी, पेंशन उतनी ही अधिक होगी।

एनपीएस खाता कैसे खोला जा सकता है?

NPS Tier-1 और Tier-2 के तहत दो तरह के खाते खोले जाते हैं। टियर-1 एक सेवानिवृत्ति खाता है, जबकि टियर-2 एक स्वैच्छिक खाता है, जिसमें कोई भी वेतनभोगी ( Pensioners ) व्यक्ति अपनी ओर से निवेश ( Investment ) शुरू कर सकता है। टियर-2 खाता टियर-1 खाता खुलवाने के बाद ही खोला जाता है। एनपीएस ( National Pension Scheme ) टियर-1 खाता खोलने के लिए 500 रुपये और टियर-2 खाते के लिए न्यूनतम 1000 रुपये का योगदान देना होगा। पहले यह सीमा 6,000 रुपये थी, जिसे घटाकर 1,000 रुपये कर दिया गया था।

आप 65 साल की उम्र तक निवेश ( Investment ) कर सकते हैं। एनपीएस ( National Pension Scheme ) निवेश पर 40 फीसदी एन्युटी खरीदना जरूरी है। 60 साल बाद एकमुश्त रकम का 60 फीसदी निकाला जा सकता है. यदि न्यूनतम वार्षिक निवेश नहीं किया जाता है, तो खाता फ्रीज और निष्क्रिय कर दिया जाता है।

आप एनपीएस खाता ऑनलाइन भी शुरू कर सकते हैं

1. एनपीएस खाता ( National Pension Scheme Account ) खोलने के लिए enps.nsdl.com/eNPS या Nps.karvy.com पर जाएं।
2. न्यू रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करें और अपना विवरण भरें। मोबाइल नंबर को ओटीपी से वेरिफाई किया जाएगा। बैंक खाता विवरण दर्ज करें।
3. अपना पोर्टफोलियो और फंड चुनें। नाम भरें।
4. जिस बैंक खाते में विवरण भरा जाता है, उस खाते का रद्द चेक देना होगा। इसके अलावा फोटो और सिग्नेचर भी अपलोड करने होंगे।
5. पेमेंट करने के बाद आपका परमानेंट रिटायरमेंट अकाउंट (PRN) नंबर जेनरेट हो जाएगा। आपको भुगतान रसीद भी मिलेगी।
6. निवेश ( Investment ) करने के बाद ‘ई-साइन/प्रिंट रजिस्ट्रेशन फॉर्म’ पेज पर जाएं। यहां आप पैन और नेटबैंकिंग से रजिस्टर कर सकते हैं। यह KYC (अपने ग्राहक को जानो) करेगा।

आयकर छूट का अधिक लाभ प्राप्त करें

एनपीएस ( National Pension Scheme ) में ग्राहकों को टैक्स छूट की भी सुविधा मिलती है। आयकर अधिनियम की धारा 80CCD(1), 80CCD(1b) और 80CCD(2) के तहत कर छूट उपलब्ध है। NPS पर सेक्शन 80C के तहत 1.50 लाख रुपये के अलावा आप 50,000 रुपये और डिडक्शन ले सकते हैं। एनपीएस में निवेश ( NPS Investment ) करके आप 2 लाख रुपये की आयकर छूट का लाभ उठा सकते हैं।

अन्य लाभ क्या हैं?

आप अपना एनपीएस अकाउंट ( National Pension Scheme Account ) भी ट्रांसफर कर सकते हैं। आप अपनी जरूरत के हिसाब से इसकी लोकेशन भी बदल सकते हैं। अभिदाता अपने एनपीएस खाते ( NPS Account ) को मोबाइल एप्लिकेशन और सिस्टम के माध्यम से ऑनलाइन एक्सेस कर सकता है। यानी इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है, आपके सारे काम घर बैठे ही हो जाएंगे.

यह भी जानें :- PF withdrawal rule changed : इमरजेंसी में निकालेंगे PF का पैसा, अब घर बैठे 3 दिन में मिलेगा पैसा