Bank Fixed Deposit Risk : फिक्स्ड डिपाजिट में नुकसान से बचने के लिए इन 5 जोखिमों के बारे में जरूर जानें

Bank Fixed Deposit Risk : सावधि जमा ( Fixed Deposit ) हमेशा से बैंकों में निवेश का एक लोकप्रिय साधन रहा है ! इसमें निवेशकों को न केवल सुनिश्चित रिटर्न मिलता है बल्कि जोखिम भी कम होता है ! लेकिन, हकीकत में ऐसा नहीं है ! निवेश ( Investment ) सलाहकारों का मानना ​​है कि भले ही FD को सबसे कम जोखिम वाला निवेश विकल्प माना जाता है !

Bank Fixed Deposit Risk

Bank Fixed Deposit Risk

Bank Fixed Deposit Risk

लेकिन इसकी सीमाएं भी हैं ! इसमें बैंकों ( Bank ) के डिफॉल्ट करने पर आपका पैसा डूबने का खतरा रहता है ! मैच्योरिटी से पहले फंड निकालने की कोई सुविधा नहीं है ! महंगाई का असर FD ( Fixed Deposit ) के ब्याज पर भी पड़ता है. ऐसे पांच जोखिम हैं, जिन्हें FD कराते समय ध्यान में रखना चाहिए !

डिफ़ॉल्ट का जोखिम

कुछ छोटे सहकारी बैंकों ( Government Bank ) के दिवालिया होने के मामले सामने आए हैं ! ऐसे में निवेशकों की जमा राशि पर जोखिम बढ़ जाता है ! नए नियम के तहत बैंक के डूबने की स्थिति में 5 लाख रुपये तक की कुल जमा राशि पर बीमा मिलता है ! ऐसे में अगर आपने किसी बैंक में 15 लाख रुपये की FD ( Bank Fixed Deposit ) करा दी है और वह बैंक डूब जाता है तो आपको अधिकतम 5 लाख रुपये ही मिलेंगे. बाकी 10 लाख रुपये डूबने का खतरा है !

परिपक्वता से पहले धन की निकासी नहीं की जाती है,

FD में एक निश्चित अवधि के लिए निवेश किया जाता है ! आप इस अवधि से पहले धनराशि नहीं निकाल सकते ! मान लीजिए, आपने टैक्स सेविंग FD ( Tax Saving FD ) कर ली है, जिसमें पांच साल की लॉक-इन अवधि है, तो आप मैच्योरिटी के बाद ही फंड निकाल सकते हैं !

मैच्योरिटी से पहले पैसे निकालने से आपको नुकसान हो सकता है ! साथ ही, कई बैंक FD से ऑनलाइन निकासी ( bank Fixed Deposit Online Withdrawal) की सुविधा नहीं देते हैं ! ऐसे में पैसों की निकासी के लिए कागजी कार्रवाई करने के लिए आपको बैंक की शाखा में जाना पड़ता है !

Fixed Deposit पर ब्याज से होने वाली कमाई पर टैक्स लगता है. इसे कमाई में जोड़कर स्लैब के हिसाब से टैक्स लगता है ! हालांकि, अगर आपकी उम्र 60 साल से ऊपर है, तो आपको आयकर अधिनियम की धारा 80TTB के तहत FD पर अर्जित ब्याज पर ( Fixed Deposit Interest ) 50,000 तक की कटौती मिलती है !

मुद्रा स्फ़ीति : Bank Fixed Deposit Risk

महंगाई हर तरह के निवेश ( Investment ) को प्रभावित करती है और जोखिम भी बढ़ाती है ! मान लीजिए कोई बैंक FD पर 8 फीसदी ब्याज दे रहा है और उस वक्त महंगाई दर 7% है तो आपको डिपॉजिट ( FD )पर सिर्फ एक फीसदी का ही वास्तविक रिटर्न मिल रहा है ! बाजार के उतार-चढ़ाव से FD ( Fixed Deposit ) पर कोई असर नहीं पड़ता है ! लेकिन, वास्तविक प्रतिफल मुद्रास्फीति के अनुसार बढ़ता या घटता रहता है !

कम ब्याज वाली FD दोबारा निवेश ( Bank Investment ) पर मैच्योर होने पर आपके पास दो विकल्प होते हैं ! पहले… तुम पैसे निकाल लो ! दूसरा… फिर से FD के रूप में निवेश करें ! आप चाहें तो नई FD भी खोल सकते हैं, लेकिन इसमें उतना ही ब्याज मिलेगा, जो अभी लागू है. इस कदम से आपके दीर्घकालिक वित्तीय लक्ष्यों पर जोखिम बढ़ जाएगा क्योंकि आपको इस FD ( Fixed Deposit ) पर पहले जैसा ब्याज नहीं मिलेगा !

सहित अन्य कारकों का ध्यान रखें

महंगाई, FD ( Bank Fixed Deposit ) बनाते समय महंगाई, डिफॉल्ट, रिटर्न, टैक्स देनदारी जरूर कैलकुलेट करें ! कभी भी पूरी राशि को FD में न डालें ! साथ ही ऐसे इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश ( Investment ) करें जहां से जरूरत पड़ने पर आपको पूंजी मिल सके !