IAS Success Story Of Saumya Sharma : 16 वर्ष की आयु में सुनने की शक्ति खोई लेकिन फिर भी बनी IAS ऑफिसर

IAS Success Story Of Saumya Sharma Indian Administrative Service 16 वर्ष की आयु में सुनने की शक्ति खोई लेकिन फिर भी बनी IAS ऑफिसर : नमस्कार मित्रो आप सभी को पता है की आईएएस अर्थात संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission) द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षा को पास करना उतना आसान नहीं होता है ! क्योकि यह केंद्र सरकार के द्वारा आयोजित करने वाली सबसे बड़ी कार्यपालिका की एक प्रकार की जॉब है ! जो की आपका सलेक्शन सीधे गर्वमेंट में करता है !

IAS Success Story Of Saumya Sharma Success Story of IAS 16 वर्ष की आयु में सुनने की शक्ति खोई लेकिन फिर भी बनी IAS ऑफिसर

Success Story of IAS 16 वर्ष की आयु में सुनने की शक्ति खोई लेकिन फिर भी बनी IAS ऑफिसरइस पोस्ट (Indian Administrative Service) से बड़ी अन्य भी कई पोस्ट होती है ! किन्तु सभी जॉब में सिलेक्शन प्रमोसन के आधार पर होता है इस के लिए यह एक कार्यपालिका की वह पोस्ट है जो की एक जिले पर अपना सर्वोच्च कंट्रोल रखता है ! वह की समस्त चीजों को ध्यान पूर्वक चलने का काम करता है जिसके माध्यम से सभी तरह से वे लोग अपने लिए कार्य कर सकते है ! समाज कल्याण की नीव भी रख पाते है हम आप को आज इस ही प्रकार की एक महिला आईएएस की स्टोरी से अवगत करना चाहते है क्योकि इस के द्वारा सभी की मोटिवेशन मिलेगा |

16 वर्ष की आयु में सुनने की शक्ति खोई लेकिन फिर भी बनी IAS ऑफिसर

आज की स्टोरी हम सभी के बिच से ही निकली एक साधारण लड़की जिसका नाम सौम्य है ! सौम्य वास्तव में एक अच्छे परिवार से अति है किन्तु इन पर कई तरह की विपतिया आ गयी थी ! सौम्य अपने लिए बहुत अच्छे भविष्य की कामना में लगी रहती है समय अपने प्रारभिक शिक्षा में अच्छी थी तथा वे अपने लिए बहुत ही अच्छे नंबर से पास होती थी ! जिसके द्वारा उनकी रूचि हमेशा एक उच्च अधिकारी की बनी रहती थी ! सौम्य के माता पिता पेशे से डॉक्टर थे वे अपनी बच्ची के बेहतर भविष्य के लिए हमेसा प्रयास बने रहते थे ! सौम्य भी अपने माता पिता के जैसे समाज की सेवा करना चाहती थी किन्तु वे डॉक्टर बन कर नहीं करना चाहती थी ! उन्होंने इस के लिए एक अलग रास्ता इख्तियार किया जिससे की वे बेहतर समाज की नीव रख सके !

Indian Administrative Service

सौम्य ने अपनी पढ़ाई मुख्य रूप से दिल्ली से की है उन्होंने कक्षा 12 वी के बाद में दिल्ली के नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी से अपनी पढ़ाई समाप्त की तथा उन्होंने बताया की वे बचपन से ही पड़ने में अच्छी थी ! किन्तु जैसे जैसे वे बड़ी होती गयी उन्हें कई तरह की दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा ! जैसा की उन्होंने अपने इंटरव्यू में बताया था की उनकी बचपन में लगभग 16 वर्ष की आयु के समय उनकी कान की सुनने की क्षमता खत्म हो गयी थी ! वे सुनने के लिए ऐड मशीन का प्रयोग करती थी तथा हम सभी अंदाजा लगा सकते है की उन्हें कितनी समस्या होती होगी ! किन्तु उन्होंने फिर भी कभी हार नहीं मानी अपने दृढ़ संकल्प जो इन्होने upsc (Indian Administrative Service) के लिए बनाया ! उसे बनाये रखा उन्होंने इस के लिए अथक प्रयास किये तथा यह एग्जाम (Union Public Service Commission) पास की जिससे की वे आज के समय में एक आईएएस अधिकारी (Indian Administrative Service) है |

Union Public Service Commission

सौम्य (IAS Officer) को वैसे तो बहुत से लोग जानते है वे अपनी परीक्षा देने जा रही थी उस दिन उन्हें लगभग 102 डिग्री भुखार था ! जिसके बाद भी वे एग्जाम देने गयी व उन्होंने इस एग्जाम को पास किया ! सौम्य अपनी एग्जाम पास करने का श्रेय अपने माता पिता को देती है ! वे अपने द्वारा कहे गए एक्सपीरियंस के द्वारा कहती है की वे हमे पुराने एग्जाम पेपर को हल करा करती थी एवं वे हमेसा एग्जाम (Union Public Service Commission) के वैकल्पिक सवाल लगाया करती थी ! उन्हें इस के माध्यम से लाभ भी हुआ उन्होंने बहुत अच्छे नंबरों से यह एग्जाम को पास किया जिसके बाद वे आज अपनी ड्रीम जॉब में सलग्न है ! उन्होंने वर्ष 2017 में (UPSC Exam) पास की एवं आप सभी को यह जान कर आश्चर्य होगा की वे विकलांग कोटे में आने के बावजूद उन्होंने सामान्य से अपना फॉर्म भरा और आईएएस अधिकारी बनी ! IAR रैंक 09 के साथ पास की यूपीएससी (Union Public Service Commission) परीक्षा !

यह भी देखेंIAS अधिकारी स्टोरी

Leave a Comment