IAS Success Story : शिवानी पहले प्रयास में फेल, दूसरे प्रयास में अव्वल आई, पढ़ें IAS की कहानी

IAS Success Story Of Shivani Goyal शिवानी पहले प्रयास में भी प्री एग्जाम पास नहीं कर पाई, दूसरे प्रयास में अव्वल आई और ऐसे आईएएस अधिकारी बनी : दिल्ली की शिवानी गोयल ( Shivani Goyal ) अपने लक्ष्य को लेकर हमेशा स्पष्ट थीं ! उसने बहुत पहले ही तय कर लिया था कि उसे यूपीएससी ( UPSC Civil Services ) CSE परीक्षा देनी होगी और इसीलिए उसने कॉलेज के दिनों से ही तैयारी शुरू कर दी थी ! शायद इसीलिए अपने दूसरे प्रयास में शिवानी ने न केवल परीक्षा पास की बल्कि 15 वीं रैंक भी हासिल की ! इसके साथ ही उन्हें अपना वांछित IAS ( Indian Administrative Service ) पद मिल गया ! बहुत कम उम्र में, शिवानी अपने दृढ़ इरादों और दृढ़ संकल्प के आधार पर गंतव्य तक पहुंच गई !

IAS Success Story Of Shivani Goyal  

IAS Success Story Of Shivani Goyal

IAS Success Story Of Shivani Goyal

मूल रूप से दिल्ली की रहने वाली शिवानी ( Shivani Goyal ) का मानना ​​है कि आप यूपीएससी ( UPSC Civil Services ) में निबंध और नैतिकता के पेपर में कम काम करके अधिकतम अंक प्राप्त कर सकते हैं ! वह कहती है कि पिछले साल के प्रश्नपत्र देखें, जिससे आपको अंदाजा होगा कि परीक्षा में किस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं ! कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों पर अपने निबंध को अच्छी तरह से तैयार करें और तथ्यों के साथ परीक्षा में लिखें ! इससे आप IAS ( Indian Administrative Service ) पद के लिए जरूर ही चुने जाएगे और बेहतर नंबर पा सकते हैं !

दिल्ली से की स्नातक 

यूपीएससी ( UPSC Civil Services ) में शामिल होने से पहले, शिवानी गोयल ( Shivani Goyal ) ने न्यूनतम शिक्षा के रूप में दिल्ली के श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से स्नातक किया ! स्नातक के समय, वह यूपीएससी परीक्षा देने के लिए बहुत पुराना नहीं था, इसलिए उसने एक वर्ष का अंतराल लिया और जमकर तैयारी की ! शिवानी ने आखिरकार वर्ष 2017 में अपने दूसरे प्रयास में मेरिट सूची में स्थान बनाया ! वह मानती हैं कि IAS बनने के लिए इन पेपरों में कम मेहनत के साथ ज्यादा मेहनत पाई जा सकती है, इसलिए उन पर विशेष ध्यान दें !

एक साल तक यूपीएससी परीक्षा का इंतजार किया IAS Success Story Of Shivani Goyal

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि शिवानी गोयल ( Shivani Goyal ) अपने लक्ष्य को लेकर इतनी आश्वस्त थीं कि उन्होंने स्नातक के दौरान ही यूपीएससी ( UPSC Civil Services ) की तैयारी शुरू कर दी थी !

उन्हें परीक्षा देने के लिए 1 साल का इंतजार करना पड़ा क्योंकि उस समय परीक्षा के नियमों के अनुसार उनकी न्यूनतम आयु कम थी ! हालांकि, उन्होंने इस समय का अच्छी तरह से उपयोग किया और अपनी तैयारी को मजबूत किया ! इसके कारण, उन्होंने दूसरे प्रयास में सफलता हासिल कर अपना IAS ( Indian Administrative Service ) बनने के सपना पूरा किया !

इसके लिए इन बातों का ध्यान रखें 

शिवानी ( Shivani Goyal ) निबंध पेपर की तैयारी के बारे में बात करती हैं और कहती हैं कि यदि इस निबंध की शुरुआत और अंत प्रभावी है तो परीक्षक पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा ! इसलिए, कुछ विषयों में पहले से उपयोग किए जाने वाले कुछ उपाख्यानों, उद्धरणों, उदाहरणों या कहानियों को तैयार करें ! इतना ही नहीं, पिछले सालों के पेपर्स को देखकर, आपका सबसे अच्छा अभ्यास बन जाता है और दूसरा यह कि आप पेपर के पैटर्न को भी जानते हैं ! यूपीएससी ( UPSC Civil Services ) की परीक्षा में हमे मन लगाकर पढाई करनी होती है ! शिवानी का मानना है कि एक IAS ( Indian Administrative Service ) अधिकारी बनने के लिए 8 से 10 घंटे पढाई करनी चाहिए !

नैतिकता के लिए इन बातों पर विचार करें 

शिवानी की अगली महत्वपूर्ण सलाह यह है कि निबंध और नैतिकता दोनों में उत्तर लिखते समय विषय से विचलित न हों ! यह भी ध्यान रखें कि क्या पूछा गया है, यह न बताएं कि आपको क्या आता है ! एथिक्स पेपर के लिए अगली महत्वपूर्ण बात शिवानी सिलेबस है !

शिवानी गोयल ( IAS Shivani Goyal ) कहती हैं कि जबकि यूपीएससी ( UPSC Civil Services ) के सिलेबस हर पेपर के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है, जहाँ तक नैतिकता का सवाल है, इसे तैयार करने से पहले सिलेबस से पहले बैठें ! प्रत्येक विषय की जाँच करते रहें और देखें कि इसके अंतर्गत किस प्रकार की सामग्री की आवश्यकता है ! IAS ( Indian Administrative Service ) के इंटरव्यू में एक अधिकारी की तरह, समाधान की बात करें और समस्या की नहीं !

यह भी जानें :-  IAS Success Story : सिर्फ चार महीने की तैयारी से पास की UPSC की परीक्षा, सौम्या पहले प्रयास में टॉपर

Breakfast Shop Business Ideas : इस बिज़नेस को शुरू कर आप कमा सकते है लाखों

Summer Business Ideas : गर्मियों के सीजन से पहले ही शुरू कर दें ये बिजनेस, कमाएं लाखों

जुड़वा बच्चे कैसे पैदा होते हैं | यहां जानें GK In Hindi General Knowledge