Farm Business : इस पेड़ की खेती में होता है बड़ा मुनाफा, हर साल कमा सकते है 12 लाख रुपए, देंखे यहाँ

Farm Business : आज के समय में लोगों का बिजनेस ( Business ) के प्रति रुझान काफी बढ़ रहा है। हर कोई सोचता है कि नौकरी से बेहतर है बिजनेस ( Best Business ) करना। ऐसा होने का मुख्य कारण यह है कि कोरोना काल में कई लोगों की नौकरी चली गई। कई बड़ी कंपनियों ने बड़े पैमाने पर कर्मचारियों की छंटनी की थी।

Farm Business

"<yoastmark

यह देखकर बहुत से लोग अपने व्यवसाय ( Business ) को बेहतर ढंग से समझने लगे। सरकार भी लोगों को नया कारोबार शुरू ( New Business Start ) करने के लिए प्रोत्साहित करती रहती है। इसके साथ ही सरकार की ओर से कई योजनाएं चलाई जा रही हैं ताकि नया कारोबार शुरू करने वाले लोगों की मदद की जा सके और वे अपना कारोबार ( Small Business ) सुचारू रूप से चला सकें.

72 लाख कमाएं वो भी सिर्फ 25 हजार का निवेश:

आप अच्छे तरीके से व्यापार ( Business ) करके अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते हैं। इस रिपोर्ट में हम आपको एक ऐसे बिजनेस के बारे में बताएंगे जिसमें आप कम खर्च में ज्यादा रिटर्न पा सकते हैं। आज हम जिस बिजनेस की बात कर रहे हैं उसे कम से कम 25 हजार रुपए निवेश करके शुरू किया जा सकता है।

इसे शुरू करने के पांच साल के भीतर कोई भी आसानी से 72 लाख रुपये की आय अर्जित कर सकता है।

यूकेलिप्टस की खेती कर कमाएं बड़ा मुनाफा

नीलगिरी के पेड़ की खेती ( Eucalyptus Cultivation Business ) करके कोई भी आसानी से अधिक लाभ प्राप्त कर सकता है। इसके लिए गांव में इसकी ठीक से खेती करनी होगी। इसकी सही तरीके से खेती करके आप ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं। आपको बता दें कि यूकेलिप्टस की खेती ( Eucalyptus Farming ) पूरे भारत में की जाती है। यह खेती बहुत ही आसानी से किसी भी मौसम में और किसी भी क्षेत्र में की जा सकती है।

यह पेड़ बहुत उपयोगी है

एक हेक्टेयर में 3 हजार से ज्यादा यूकेलिप्टस ( Eucalyptus ) के पेड़ लगाए जा सकते हैं। इसे नर्सरी से 7 से 8 रुपये में आसानी से खरीदा जा सकता है। ऑस्ट्रेलिया के इस पेड़ की खेती भारत में भी की जाती है। इन पेड़ों का उपयोग हार्डबोर्ड, लुगदी, फर्नीचर, बक्से आदि बनाने के लिए किया जाता है। इसकी खेती मध्य प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और बिहार सहित भारत के कई राज्यों में की जाती है।

नीलगिरी की खेती: लागत और लाभ विवरण

पेड़ को ज्यादा देखभाल या रखरखाव की आवश्यकता नहीं होती है। एक हेक्टेयर में लगभग 3000 पौधे लगाए जा सकते हैं। ये पौधे आपको नर्सरी से 5-7 रुपये में मिल सकते हैं। तो, पौधे की कुल लागत लगभग रु 21000. विविध खर्चों को जोड़ने पर उत्पादन की कुल लागत लगभग 25000 रुपये हो सकती है।

4-5 वर्ष बाद प्रत्येक पेड़ से लगभग 400 किग्रा लकड़ी प्राप्त की जा सकती है।

यानी 3000 पेड़ों से करीब 12 लाख किलो लकड़ी प्राप्त होगी। इस लकड़ी को बाजार में रुपये में बेचा जा सकता है। 6 प्रति किग्रा. यदि आप इसे बेचते हैं, तो आप लगभग रु. 72 लाख। अगर कुछ और खर्चे (जमीन का किराया, रख-रखाव का खर्च आदि) काट लिया जाए तो भी आप कम से कम रु. 4 – 5 साल में 60 लाख।

Farm Business

आपको बता दें कि यूकेलिप्टस ( Eucalyptus ) एक ऑस्ट्रेलियाई पेड़ है जिसकी खेती भारत में व्यापक रूप से की जाती है। इसे विभिन्न नामों से भी जाना जाता है जैसे गोंद, नीलगिरी, आदि। इन पेड़ों से कठोर बोर्ड, लुगदी, फर्नीचर और बक्से बनाए जाते हैं। यह मध्य प्रदेश, बिहार, हरियाणा, आंध्र प्रदेश और पंजाब सहित विभिन्न भारतीय राज्यों में उगाया जाता है। एक पेड़ की ऊंचाई आमतौर पर 40 से 80 मीटर तक होती है। इन पेड़ों के बीच में जब भी लगाए जाएं डेढ़ मीटर का फासला रखें।

नीलगिरी की लकड़ी का ऑस्ट्रेलिया में व्यापक रूप से ईंधन के रूप में उपयोग किया जाता है, और लकड़ी का उपयोग निर्माण और बाड़ लगाने में भी किया जाता है।

बक्से, ईंधन, हार्ड बोर्ड, फर्नीचर और कण बोर्ड सभी सुरक्षित लकड़ी से बने होते हैं। यूकेलिप्टस ( Eucalyptus ) के पौधे सिर्फ पांच साल में अच्छी तरह विकसित हो जाते हैं। उसके बाद उन्हें काटा जा सकता है। एक पेड़ से लगभग 400 किलो लकड़ी प्राप्त होती है।

यह भी जानें :- Rural Business Idea : गांव में रहने वाले युवा शुरू करें यह बिजनेस, होगी लाखों में कमाई, देंखे आईडिया

Leave a Comment