Business Idea: सिर्फ 10,000 रुपये में घर बैठे शुरू करें ये बिजनेस, हर महीने कमा रहे हैं लाखों रुपये

Black Pepper Farming Business : अगर आप खेती ( Farming ) से बंपर कमाने की तैयारी कर रहे हैं तो आज हम आपके लिए एक ऐसा आइडिया ( Business Idea ) लेकर आए हैं, जो पारंपरिक खेती से अलग है और लाखों रुपये कमाए हैं। काली मिर्च की खेती ( Black Pepper Farming ) की खेती आज किसान अच्छी कमाई कर रहे हैं। मेघालय के रहने वाले नानाडो मराक 5 एकड़ जमीन पर काली मिर्च की खेती करते हैं। उनकी सफलता को देखकर केंद्र सरकार ने उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया है। मारक ने सबसे पहले काली मिर्च की किस्म कारी मुंडा उगाई।

Black Pepper Farming Business

"<yoastmark

वह अपनी खेती में हमेशा जैविक खाद का इस्तेमाल करते हैं। उन्होंने शुरुआती चरण में 10,000 रुपये में काली मिर्च के करीब 10,000 पौधे लगाए। जैसे-जैसे साल बीतते गए, उनकी संख्या बढ़ती गई। उनके द्वारा उगाई जाने वाली काली मिर्च की पूरी दुनिया में काफी मांग है। उनका घर वेस्ट गारो हिल्स की पहाड़ियों में है।

लोग जैसे ही उनके क्षेत्र में प्रवेश करते हैं, उन्हें काली मिर्च जैसे मसालों की सुगंध आने लगती है। गारो हिल्स एक पूर्ण पहाड़ी और वनाच्छादित क्षेत्र है। मराक ने बिना पेड़ों को काटे और पर्यावरण को कोई नुकसान पहुंचाए बिना काली मिर्च की खेती ( Black Pepper Farming ) का दायरा बढ़ाया। इस कार्य में उन्हें राज्य के कृषि एवं उद्यान विभाग का पूरा सहयोग मिला। मारक ने अपने जिले के किसानों ( Farmer ) को अपनी खेती से खेती बढ़ाने में मदद की है। नानादर बी. मराक ने मेघालय में काली मिर्च की खेती में एक बेहतरीन मिसाल कायम की है।

केंद्र सरकार सम्मानित

वर्ष 2019 में उन्होंने अपने बागान से 19 लाख रुपये मूल्य की काली मिर्च का उत्पादन किया है। उसकी कमाई दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। भारत सरकार ने नादर बी जारी किया है। खेती के क्षेत्र में की गई मेहनत और लगन को देखते हुए यह काबिले तारीफ है। 72वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर जैविक खेती ( Organic Farming ) को बढ़ावा देने और देश के अन्य किसानों ( Farmer ) के लिए प्रेरणा बनने के लिए नानादर बी. मारक को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

खेती कैसे करें

नादर बी मारक 8-8 फीट की दूरी पर काली मिर्च ( Black Pepper Farming Business ) के पौधे लगाते हैं। दो पौधों के बीच इतनी दूरी रखना जरूरी है क्योंकि इससे पौधों को बढ़ने में आसानी होती है। काली मिर्च की फली को पेड़ से तोड़कर सुखाने और निकालने में सावधानी बरती जाती है। दानों को कुछ समय के लिए पानी में डुबोया जाता है और फिर सुखाया जाता है। यह अनाज को एक अच्छा रंग देता है।

खेती के दौरान प्रति पौधे 10-20 किलो गोबर की खाद और वर्मीकम्पोस्ट दिया जाता है। पौधों से फलियों को तोड़ने के लिए थ्रेशिंग मशीन का प्रयोग किया जाता है ताकि तुड़ाई का कार्य तेजी से हो। प्रारंभ में काली मिर्च की फली में 70 प्रतिशत तक नमी होती है, जो उचित सुखाने से कम हो जाती है। नमी ज्यादा होने पर अनाज खराब हो सकता है।

यह भी जानें :- LIC Jeevan Umang Policy 2022 : हर महीने 1302 रुपये का निवेश कर पाएं 28 लाख रुपये, जानिए डिटेल्स

Post Office Superhit Yojana : अपना पैसा इन 7 स्कीमों में लगाएं और पाएं शानदार रिटर्न पूरी जानकारी

Check Ayushman Bharat Yojna List : आयुष्मान भारत योजना में अपना नाम देखे है या नही, ये है असान तरीका

HDFC Bank Hikes Fixed Deposit Interest Rates : बैंक ने बड़ाई FD दर, देंखे नईं दरें

National Scholarship Portal : स्कॉलरशिप पोर्टल ने जारी की ऑनलाइन आवेदन की सूची, लाभार्थी करें चेक